Maansarovar Part 1

ईदगाह कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Eidgaah Story Munshi Premchand | PDF

Eidgaah Kahani – Premchand रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज का सूर्य देखो, कितना प्यारा, कितना शीतल है, यानी संसार को ईद की बधाई दे रहा है। …

ईदगाह कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Eidgaah Story Munshi Premchand | PDF Read More »

माँ कहानी मुंशी प्रेमचन्द । Maa Kahani Munshi Premchand | PDF

आज बन्दी छूटकर घर आ रहा है। करुणा ने एक दिन पहले ही घर लीप-पोत रखा था। इन तीन वर्षों में उसने कठिन तपस्या करके जो दस-पाँच रूपये जमा कर रखे थे, वह सब पति के सत्कार और स्वागत की तैयारियों में खर्च कर दिये। पति के लिए धोतियों का नया जोड़ा लायी थी, नये …

माँ कहानी मुंशी प्रेमचन्द । Maa Kahani Munshi Premchand | PDF Read More »

बेटोंवाली विधवा कहानी प्रेमचन्द | Betonwali Vidhava Kahani Premchand | PDF

पंडित अयोध्यानाथ का देहांत हुआ तो सबने कहा, ईश्वर आदमी की ऐसी ही मौत दे। चार जवान बेटे थे, एक लड़की। चारों लड़कों के विवाह हो चुके थे, केवल लड़की क्‍वाँरी थी। संपत्ति भी काफी छोड़ी थी। एक पक्का मकान, दो बगीचे, कई हजार के गहने और बीस हजार नकद। विधवा फूलमती को शोक तो …

बेटोंवाली विधवा कहानी प्रेमचन्द | Betonwali Vidhava Kahani Premchand | PDF Read More »

बड़े भाई साहब प्रेमचन्द | Bade Bhai Sahab Kahani Premchand | PDF

मेरे भाई साहब मुझसे पाँच साल बड़े थे, लेकिन केवल तीन दरजे आगे। उन्होंने भी उसी उम्र में पढ़ना शुरू किया था जब मैने शुरू किया था; लेकिन तालीम जैसे महत्व के मामले में वह जल्दबाजी से काम लेना पसंद न करते थे। इस भावना की बुनियाद खूब मजबूत डालना चाहते थे जिस पर आलीशान …

बड़े भाई साहब प्रेमचन्द | Bade Bhai Sahab Kahani Premchand | PDF Read More »

शांति कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Shanti Story Munshi Premchand | PDF

स्वर्गीय देवनाथ मेरे अभिन्न मित्रों में थे। आज भी जब उनकी याद आती है, तो वह रंगरेलियाँ आँखों में फिर जाती हैं, और कहीं एकांत में जाकर जरा देर रो लेता हूँ। हमारे और उनके बीच में दो-ढाई सौ मील का अंतर था। मैं लखनऊ में था, वह दिल्ली में; लेकिन ऐसा शायद ही कोई …

शांति कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Shanti Story Munshi Premchand | PDF Read More »

नशा कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Nasha Kahani Munshi Premchand | Download PDF

ईश्वरी एक बड़े जमींदार का लड़का था और मैं एक गरीब क्लर्क का, जिसके पास मेहनत-मजूरी के सिवा और कोई जायदाद न थी। हम दोनों में परस्पर बहसें होती रहती थीं। मैं जमींदारी की बुराई करता, उन्हें हिंसक पशु और खून चूसने वाली जोंक और वृक्षों की चोटी पर फूलने वाला बंझा कहता। वह जमींदारों …

नशा कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Nasha Kahani Munshi Premchand | Download PDF Read More »

अनुभव कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Anubhava Story Premchand Maansarovar

प्रियतम को एक वर्ष की सजा हो गयी। और अपराध केवल इतना था, कि तीन दिन पहले जेठ की तपती दोपहरी में उन्होंने राष्ट्र के कई सेवकों का शर्बत-पान से सत्कार किया था। मैं उस वक्त अदालत में खड़ी थी। कमरे के बाहर सारे नगर की राजनैतिक चेतना किसी बंदी पशु की भाँति खड़ी चीत्कार …

अनुभव कहानी मुंशी प्रेमचन्द | Anubhava Story Premchand Maansarovar Read More »

आखिरी हीला कहानी प्रेमचन्द | Aakhiri Hila Kahani Premchand | PDF

यद्यपि मेरी स्मरण-शक्ति पृथ्वी के इतिहास की सारी स्मरणीय तारीखें भूल गयीं, वह तारीखें जिन्हें रातों को जागकर और मस्तिष्क को खपाकर याद किया था; मगर विवाह की तिथि समतल भूमि में एक स्तंभ की भाँति अटल है। न भूलता हूँ, न भूल सकता हूँ। उससे पहले और पीछे की सारी घटनाएँ दिल में मिट …

आखिरी हीला कहानी प्रेमचन्द | Aakhiri Hila Kahani Premchand | PDF Read More »

अलग्योझा कहानी प्रेमचन्द | Algyojha Short Story Premchand | Download PDF

भोला महतो ने पहली स्त्री के मर जाने बाद दूसरी सगाई की तो उसके लड़के रग्घू के लिये बुरे दिन आ गये। रग्घू की उम्र उस समय केवल दस वर्ष की थी। चैन से गाँव में गुल्ली-डंडा खेलता फिरता था। माँ के आते ही चक्की में जुतना पड़ा। पन्ना रुपवती स्त्री थी और रुप और …

अलग्योझा कहानी प्रेमचन्द | Algyojha Short Story Premchand | Download PDF Read More »

पूस की रात कहानी प्रेमचन्द | Poos Ki Raat Kahani Premchand | PDF

हल्कू ने आकर स्त्री से कहा- सहना आया है, लाओ, जो रुपये रखे हैं, उसे दे दूँ, किसी तरह गला तो छूटे । मुन्नी झाड़ू लगा रही थी। पीछे फिरकर बोली- तीन ही तो रुपये हैं, दे दोगे तो कम्मल कहाँ से आवेगा ? माघ-पूस की रात हार में कैसे कटेगी ? उससे कह दो, …

पूस की रात कहानी प्रेमचन्द | Poos Ki Raat Kahani Premchand | PDF Read More »