स्वामिनी कहानी मुंशी प्रेमचन्द । Swamini Short Story Munshi Premchand । PDF

शिवदास ने भंडारे की कुंजी अपनी बहू रामप्यारी के सामने फेंककर अपनी बूढ़ी आँखों में आँसू भरकर कहा- बहू, आज से गिरस्ती की देखभाल तुम्हारे ऊपर है। मेरा सुख भगवान से नहीं देखा गया, नहीं तो क्या जवान बेटे को यों छीन लेते! उसका काम करने वाला तो कोई चाहिए। एक हल तोड़ दूँ, तो …

स्वामिनी कहानी मुंशी प्रेमचन्द । Swamini Short Story Munshi Premchand । PDF Read More »